हमारी पहुंच

अक्षय पात्र आज  भारत के 10 राज्यों में 24 स्थानों पर 1,429,878 बच्चों तक पहुंचता है और उन्हें प्रत्येक विद्यालयी दिन पर स्वादिष्ट, पोषक, ताजा पका मध्याह्न-भोजन प्रदान करता है। वर्तमान में कार्यक्रम को देश के 10,845 विद्यालयों में क्रियान्वित किया जा रहा है और वर्ष 2020 तक 50 लाख बच्चों को भोजन कराने की स्थिति में पहुंचने का हमारा लक्ष्य है।

प्रत्येक स्थान पर हमारे प्रचालनों के बारे में अधिक जानने के लिए राज्य-विशेष पर क्लिक करें।

 

राज्य / स्थान बच्चों की संख्या विद्यालयों की संख्या रसोई का प्रकार
आन्ध्र प्रदेश 21,333 82  
विशाखापत्तनम् 21,333 82 केन्द्रीयकृत रसोई
तेलंगाना 54,849 454  
हैदराबाद 54,849 454 केन्द्रीयकृत रसोई
असम 53,649 592  
गुवाहाटी 53,649 592 केन्द्रीयकृत रसोई
छत्तीसगढ़ 23,674 160  
भिलाई 23,674 160 केन्द्रीयकृत रसोई
गुजरात 400,158 1,653  
अहमदाबाद 121,508 666 केन्द्रीयकृत रसोई
वडोदरा 113,593 616 केन्द्रीयकृत रसोई
सूरत 165,057 371 केन्द्रीयकृत रसोई
कर्नाटक 463,682 2,629  
बंगलुरु 184,530 1,055 केन्द्रीयकृत रसोई
बेलरी 115,945 575 केन्द्रीयकृत रसोई
हुबली 126,693 789 केन्द्रीयकृत रसोई
मैंगलोर 22,679 147 केन्द्रीयकृत रसोई
मैसूर 13,835 63 केन्द्रीयकृत रसोई
ओडिशा 125,242 1,461  
कटक 4,000 28 केन्द्रीयकृत रसोई
पुरी 55,835 648 केन्द्रीयकृत रसोई
नयागढ़ 24,580 352 विकेन्द्रीकृत रसोई
राउरकेला 40,827 433 केन्द्रीयकृत रसोई
राजस्थान 135,910 1,830  
जयपुर 92,763 1,081 केन्द्रीयकृत रसोई
जोधपुर 6,417 148 केन्द्रीयकृत रसोई
नाथद्वारा 25,274 435 केन्द्रीयकृत रसोई
बरान 11,456 166 विकेन्द्रीकृत रसोई
उत्तर प्रदेश 150,663 1,983  
वृन्दावन 139,262 1,874 केन्द्रीयकृत रसोई
लखनऊ 11,401 109 केन्द्रीयकृत रसोई
तमिलनाडु 718 1  
चेन्नै 718 1 केन्द्रीयकृत रसोई
योग 1,429,878 10,845
 

Share this post

Note : "This site is best viewed in IE 9 and above, Firefox and Chrome"

`